Uttar Pradesh – Geography

Site Administrator

Editorial Team

10 Sep, 2015

9961 Times Read.

General Studies, Geography,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Uttar Pradesh- Geography

  • UP Geographyउत्तर प्रदेश की लम्बाई और चौड़ाई क्रमश: 650 किमी, 240 किमी है।
  • पूरे भारत में उत्तर प्रदेश का क्षेत्रफल 33 प्रतिशत है।
  • उत्तर प्रदेश को 8 राज्यों एवं एक केन्द्रशासित राज्य की सीमाएं स्पर्श करती हैं।
  • उत्तर प्रदेश के उत्तर में शिवालिक पर्वत श्रेणी का विस्तार है।
  • उत्तर प्रदेश के दक्षिण में विन्ध्य पर्वत श्रेणी का विस्तार है।
  • गोंडवाना लैंड उत्तर प्रदेश की प्राचीनतम भू-खण्ड का एक भाग है।
  • उत्तर प्रदेश के दक्षिण में स्थित पठारों का निर्माण विन्ध्य क्रम की शैलों से हुआ।
  • गंगा-यमुना मैदान में नवीन कॉप निक्षेपों को खादर कहा जाता है।
  • गंगा-यमुना मैदान में प्राचीन कॉप निक्षेपों को बांगर कहा जाता है।
  • तराई क्षेत्र का वह उत्तरी भाग, जहां ककड़-पत्थर और मोटे बालू के निक्षेप मिलते हैं, उन्हें भॉंवर क्षेत्र कहा जाता है।
  • तराई क्षेत्र की भूमि समतल, नम, दलदली होती है।
  • उत्तर प्रदेश का विशाल मैदानी क्षेत्र यमुना और गंडक नदियों के मध्य अवस्थित है।
  • बीहड़ों का निर्माण चम्बल और यमुना नदियों के किनारों पर हुआ है।
  • बुंदेलखंड पठार की औसत ऊंचाई 300 मीटर है।
  • प्रसिद्ध विन्डम जल प्रपात मिर्जापुर में है।
  • चम्बल बेतवा और केन यमुना नदी में दाहिने की छोर पर मिलती हैं
  • भारत में मृदा अवनालिका क्षरण से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्र चम्बल घाटी है।

 

Uttar Pradesh – Climate and Season

  • उत्तर प्रदेश की जलवायु समशीतोष्ण उष्ण कटिबंधीय है।
  • ग्रीष्म ऋतु में प्रदेश के दक्षिणी भाग में अधिक तापमान होने का   प्रमुख कारण कर्क रेखा का नजदीक होना है।
  • ग्रीष्मकाल में प्रदेश में चलने वाली शुष्क पछुआ हवाओं को लू कहा जाता है।
  • प्रदेश में बंगाल की खाड़ी वाले मानसून को पूर्वा के नाम से जाना जाता है।
  • प्रदेश में बंगाल की खाड़ी के मानसून का प्रवेश पूर्व तथा दक्षिण पूर्व दिशा से होता है।
  • प्रदेश में होने वाली सम्पूर्ण वर्षा का 75 से 85 प्रतिशत वर्षा, बंगाल की खाड़ी वाले मानसून से होती है।
  • प्रदेश में सर्वाधिक वर्षा पूर्वी मैदान के तराई क्षेत्र में होती है।
  • प्रदेश में शीतकाल और ग्रीष्मकाल में चक्रवाती और संवहनीय वर्षा होती है।

 

Uttar Pradesh – Soil and Minerals

  • IndexRIVER BASINS OF UTTAR PRADESHभांवर क्षेत्र की मृदा कंकरीली-पथरीली होती है।
  • गंगा के विशाल मैदानका निर्माण प्लीस्टोसीन युग से आज तक नदियों के निक्षेपों से हुआ है।
  • उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा जलोढ़ मिट्टी के पायी जाती है।
  • नवीन एवं प्राचीन जलोढ़ मृदा को खादर, बांगर के नाम से जाना जाता है।
  • जलोढ़ मृदा का निर्माण कांप, कीचड़ और बालू से हुआ है।
  • जलोढ़ मृदा में पोटाश एवं चूना (रसायन) की प्रचुरता रहती है।
  • जलोढ़ मृदा में फॉस्फोरस, नाइट्रोजन एवं जैव तत्व की कमी रहती है।
  • मृदा के खनिज, जैव पदार्थ, जल तथा वायु चार प्रमुख घटक हैं।
  • लवणीय एवं क्षारीय मृदा को सामान्यत: ऊसर या बंजर या कल्लर या रेह के नाम से जाना जाता है।
  • विन्ध्य शैलों के टूटने से लाल मृदा का निर्माण हुआ।
  • प्रदेश में मरुस्थलीय मृदा कुछ पश्चिमी जिलों में पायी जाती हैं।
  • लाल, परवा, मार, राकर, तथा भोण्टा आदि बुंदेलखंड की मुद्राएं हैं।
  • उत्तर प्रदेश जलीय अपरदन का मृदा अपरदन अधिक होता है।
  • परत अपरदन को ‘किसान की मौत’ कहा जाता है।
  • प्रदेश का इटावा जिला अवनलिका अपरदन से अधिक प्रभावित है।
  • ग्रीष्म ऋतु में सर्वाधिक वायु अपरदन होता है।
  • पश्चिमी उत्तर प्रदेश, प्रदेश में वायु अपरदन से सर्वाधिक प्रभावित है।

 

Uttar Pradesh – Water resource and rivers

  • प्रदेश के मैदानी भाग में समान्तर अपवाह तंत्र पाया जाता है।
  • उद्गम स्रोतों के आधार पर प्रदेश में तीन प्रकार की नदियां पायी जाती है।
  • भागीरथी और अलकनंदा नदियों का मिलन देव प्रयाग में है।
  • काली का उद्गम स्थल मिलम हिमनद में है।
  • गंगा से रामगंगा बायीं ओर से, कन्नौज के पास मिलती है।
  • गंगा उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में प्रवेश करती है और जिला बलिया से बाहर निकलती है।
  • यमुना उत्तर प्रदेश के फैजाबाद (सहारनपुर) में सर्वप्रथम प्रवेश करती है।
  • रामगंगा प्रदेश के कालागढ़ (बिजनौर) पर सर्वप्रथम प्रवेश करती है।
  • घाघरा (करनाली) का उद्गम स्थल मापचा चुंगों है।

 


Uttar Pradesh – Natural Resources

  • राज्य के 10 जिलों को खनिज बाहुल्य क्षेत्र घोषित किया गया है।
  • उत्तर प्रदेश राज्य खनिज विकास निगम की स्थापना 1974 में की गयी थी।
  • राज्य में यूरेनियम ललितपुर में पाया जाता है।
  • चूने पत्थर के भंडार में देश में उत्तर प्रदेश का दूसरा स्थान है।
  • कांच-बालू के उत्पादन में उत्तर प्रदेश का पहला स्थान है।
  • प्रदेश के हमीरपुर जिले में ग्रेफाइट के प्रमाण मिले हैं।
  • प्रदेश के मिर्जापुर का कजराहट व रोहतास क्षेत्र चूना पत्थर के लिए प्रसिद्ध है।

 

Uttar Pradesh – Flora

  • राज्य के कुल वन क्षेत्र का 97 प्रतिशत खुला, 31.70 प्रतिशत सघन एवं 11.30 प्रतिशत सघन वन क्षेत्र है।
  • प्रदेश में सोनभद्र जिले के कुल क्षेत्रफल का 43 प्रतिशत वन क्षेत्र है।
  • प्रदेश के संत रविदास नगर जिले में सबसे कम भू-भाग में वन क्षेत्र है।
  • सर्वाधिक वन प्रतिशत वाले पांच जिले घटते क्रम में इस प्रकार हैं – सोनभद्र, चंदौली, पीलीभीत, मिर्जापुर और चित्रकूट।
  • सबसे कम प्रतिशत वाले जिले भदोही, संतकबीर नगर, मऊ, मैनपुरी व देवरिया हैं।
  • प्रदेश में अति सघन वन क्षेत्र का सर्वाधिक क्षेत्रफल खीरी जिले का है।
  • खुले वन क्षेत्र का सर्वाधिक क्षेत्रफल सोनभद्र जिले का है।
  • वृच्छादन में देश में उत्तर प्रदेश का चौथा स्थान है।
  • सामान्यत: उत्तर प्रदेश में उष्णकटिबन्धीय वन पाये जाते हैं।
  • प्रदेश में सामाजिक वानिकी योजना 1976 में शुरू की गयी।
  • सामाजिक वानिकी शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग बेस्टोबाय ने किया।
  • प्रदेश में जड़ी-बूटी एवं तेंदु पत्ते का संग्रहण उत्तर प्रदेश वन निगम द्वारा कराया जाता है।
  • सामाजिक वानिकी का यूकेलिप्टस वृक्ष भूमि के लिए घातक है।
  • राज्य सरकार द्वारा भारतीय वन अधिनियम 1977 को संशोधित कर भारतीय वन (उ.प्र. संशोधन)अधिनियम 2000 वर्ष 2001 में लागू किया गया।
  • उत्तर प्रदेश की प्रथम वन नीति 1952 में और द्वितीय वन नीति 1998 में घोषित की गयी।

 

Uttar Pradesh – Fauna

  • प्रदेश सरकार द्वारा स्थापित वन्य जीव संरक्षण के 24 केन्द्र हैं।
  • चन्द्रप्रभा वन्य जीव बिहार प्रदेश का सबसे पुराना वन्य जीव विहार है।
  • हस्तिनापुर वन्य जीव विहार, मेरठ, मुजफरनगर, प्रदेश का सबसे बड़ा वन्य जीव विहार है।
  • महावीर स्वामी वन्य जीव विहार ललितपुर, प्रदेश का सबसे छोटा वन्य जीव विहार है।
  • पटना पक्षी विहार एटा सबसे छोटा पक्षी विहार है।
  • लोकनायक पक्षी विहार बलिया में स्थित है।
  • उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान राष्ट्रीय चम्बल वन्य विहार योजना में शामिल हैं।
  • दुधवा राष्ट्रीय उद्यान में बारहसिंघा की सेरवन डुआलिसी दुर्लभ प्रजाति पायी जाती है।
  • डिक्लोफेनिक रसायन गिद्धों के असामयिक मृत्यु का कारण है।

Responses on This Article

© NIRDESHAK. ALL RIGHTS RESERVED.